Sep 5, 2018
98 Views
0 0

Best Romantic Shayari In Hindi

Written by

Today we bring for you the best romantic shayari in Hindi. As we use Hindi in our day to day life, it is easy to express our feelings with it. And if someone is using Hindi for romance then the world is with them. So to add up to your romantic journey we have made this post. Enjoy reading it and even share it with your friends. Let them come through how romantic words can make someone.

 

Tujhse hi har subha ho meri, tujhse hi har sham, kuch aisa rishta ban gaya tujhse ki har saaso mein sirf tera hi naam

Kaise badal du mai fitrat ye apni, mujhe tumhe sochte rehne ki aadat si ho gai hai

Her cheez haad mein acchi lagti hai magar tu behaad acche lagte ho

Ye kaisi pehchaan banai hai tune apni, naam tera aane par bhi log yaad mujhe karte hai

Manzil par pahuchkar likhuga mai in rasto ki mushkile ka zikr, apni to bas aage badhne se hi fursat nahi

Kash hamara bhi koi rashke kamar hota, hum bhi najar milani hume bhi maja aata

Khuda kare voh mohabbat jo mere naam se hai, hazaar saal gujarne pe bhi javaan ho rahe

Jis haal vich mere yaar razi o fatwa mere to laa qazi

Jo chahe ki duniya ki har ek fikr bhula kar dil ki bate sunai tujhe mai pas bithakar

Shauk se todo dil mere mujhe kya parvah tum bhi to rehte ho isme apne hi ujadoge

Suno.. Ankhi ke pass nahi to n sahi.. kasam se dil ke bohot pass ho tum

Tum mil gaye toh mujh se naraz hai khuda kahta hai ek tu ab kucch mangta nahi hai

WO jan gai thi humain dard mein muskrane ki adat hai, wo roz dil dukhati thi meri khushi ke liye

 

बरबाद कर देती है मोहब्बत, हर मोहब्बत करने वाले को, क्योंकि इश्क़ हार नही मानता, और दिल बात नही मानता।.

नफरतों के जहान में हमको प्यार की बस्तियां बसानी हैं, दूर रहना कोई कमाल नहीं, पास आओ तो कोई बात बने।.

बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी, फिर भी बेइंतहा तुझे चाहने की बेबसी मेरी।.

टूटी हुई डाली का दर्द उसकी साख से पूँछो, धरती की प्यास बरसात से पूँछो, मैं आपको कितना चाहता हूँ, ये मुझसे नहीं अपने आप से पूँछो।.

तेरा नाम ही ये दिल रटता है, ना जाने तुम पे ये दिल क्यू मरता है नशा है तेरे प्यार का इतना, कि तेरी ही याद में ये दिन कटता है।.

अपने दिल की बात उनसे कह नहीं सकते, बिन कहे भी जी नहीं सकते, ऐ खुदा…ऐसी तकदीर बना, कि वो खुद हम से आकर कहे कि हम आपके बिना जी नही सकते।.

तुझे भूलकर भी न भूल पायेगें हम, बस यही एक वादा निभा पायेगें हम, मिटा देंगे खुद को भी जहाँ से लेकिन, तेरा नाम दिल से न मिटा पायेगें हम।.

कभी पहलू में आओ तो बताएँगे तुम्हें, हाल-ए-दिल अपना तमाम सुनाएँगे तुम्हें । काटी हैं कैसे हमने तन्हाई की ये रातें, हर उस रात की तड़प दिखाएँगे तुम्हें ।.

राह में संग चलूँ ये न गँवारा उसको, दूर रहकर वो करता है इशारे बहुत, नाम तेरा कभी आने न दिया होंठों पर, यूँ तेरे जिक्र से शेर सँवारे हैं बहुत।.

नजर से क्यूँ जलाते हो आग चाहत की, जलाकर क्यूँ बुझाते हो आग चाहत की, सर्द रातों में भी तपन का एहसास रहे, हवा देकर बढ़ाते हो आग चाहत की।.

उसके लिये तो मैंने यहाँ तक दुआएं की है, कि कोई उसे चाहे भी तो बस मेरी तरह चाहे।.

दिल में छुपी यादों में संवारूँ तुझको, तू दिखे तो आँखों में उतारूँ तुझको, तेरे नाम को लव पर ऐसे सजाया है, सो भी जाऊं तो ख्वाबों में पुकारूँ तुझको।.

तुम्हारे प्यार का रोग नहीं जाता कसम ले लो, गले में डाल कर मैंने सैकड़ों ताबीज़ देखे हैं।.

तेरे रोज के वादों पे मर जायेंगे हम, यूँ ही गुजरी तो गुजर जायेंगे हम।.

तेरी आँखों में जब से मैंने अपना अक्स देखा है, मेरे चेहरे को कोई आइना अच्छा नहीं लगता।.

वो प्यार जो हकीकत में प्यार होता है, जिन्दगी में सिर्फ एक बार होता है, निगाहों के मिलते मिलते दिल मिल जाये, ऐसा इतेफाक सिर्फ एक बार होता है।.

जाने कितनी रातों की नीदें ले गया वो, जो पल भर मौहब्बत जताने आया था।.

सोचा नहीं अच्छा बुरा, देखा सुना कुछ भी नहीं, माँगा ख़ुदा से हर वक़्त तेरे सिवा कुछ भी नहीं, जिस पर हमारी आँख ने, मोती बिछाये रात भर, भेजा वही कागज़ उसे, हमने लिखा कुछ भी नहीं।.

हर साँस में उनकी याद होती है, मेरी आंखों को उनकी तलाश होती है, कितनी खूबसूरत है चीज ये मोहब्बत, कि दिल धड़कने में भी उनकी आवाज होती है।.

ऐ जिंदगी मुझसे दगा ना कर मैं जिंदा रहूं ये दुआ न कर कोई छूता है तुझको तो होती है जलन ऐ हवा तू भी उसे छुआ न कर।.

मोहब्बत की भी देखों ना, कितनी अजीब कहानी है, जहर तों पिया मीरा ने, फिर भी राधा ही दिल की रानी हैं।.

काग़ज़ पे तो अदालत चलती है… हमने तो तेरी आँखो के फैसले मंजूर किये।.

तूने मोहब्बत, मोहब्बत से ज्यादा की थी, मैंने मोहब्बत तुझसे भी ज्यादा की थी, अब किसे कहोगे मोहब्बत की इन्तेहाँ, हमने शुरुआत ही इन्तेहाँ से ज्यादा की थी।.

खामोशियों से मिल रहे, खामोशियों के जवाब, अब कैसे कहूँ कि उनसे मेरी बात नहीं होती।.

दिन रात हम वो हर काम लिख लेते हैं, तेरी याद में गुजरी हर शाम लिख लेते हैं, तुझे देखे बिना इक पल भी कटता नहीं, अकेले में हथेली पे तेरा नाम लिख लेते हैं।.

उदास आपको देखने से पहले ये आँखे न रहें, खफा हो आप हमसे तो ये हमारी साँसें न रहें, अगर भूले से भी ग़म दिए हमने आपको, आपकी जिंदगी में हम क्या हमारी यादें भी न रहें।.

मुझे इश्तिहार सी लगती हैं, ये मोहब्बतों की कहानियाँ जो कहा नहीं, वो सुना करो, जो सुना नहीं, वो कहा करो।.

माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये, एक बार जी के तो देखो हमारे लिये, दिल की क्या औकात आपके सामने, हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये!.

तपती दोपहरी, गरम रेत पर… ठंडे पानी की बूँदों जैसा काम कर गई… तेरी आवाज़ जो कल सुनी मैंने…।.

हम भी कुछ प्यार के गीत गाने लगे हैं, जब से ख़्वाबों में मेरे वो आने लगे हैं।.

कसा हुआ हैं तीर हुस्न का, ज़रा संभलके रहियेगा

प्यार का बदला कभी चुका न सकेंगे,
चाह कर भी आपको भुला न सकेंगे,
तुम ही हो मेरे लबों की हँसी…
तुमसे बिछड़े तो फिर मुस्कुरा न सकेंगे।

किसी मोड़ पर तेरा दीदार हो जाये,
काश तुझे मुझ पर ऐतबार हो जाये,
तेरी पलकें झुके और इकरार हो जाये,
काश तुझे भी मुझसे प्यार हो जाये।

ज़िन्दगी से यही गिला है मुझे,
तू बहुत देर से मिला है मुझे,
तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल,
हार जाने का हौसला है मुझे।

जब खामोश आँखो से बात होती है ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है तुम्हारे ही ख़यालो में खोए रहते हैं पता नही कब दिन और कब रात होती है……

दुनियाँ में इतनी रस्में क्यों हैं, प्यार अगर ज़िंदगी है तो इसमें कसमें क्यों हैं, हमें बताता क्यों नहीं ये राज़ कोई, दिल अगर अपना है तो किसी और के बस में क्यों है

तुझे देखु तो सारा जहाँ रंगीन नज़र आता है, तेरे बिना दिल को चेन किसको आता है! तुम ही हो मेरे दिल की धड़कन, तेरा बिना यह संसार आवारा नज़र आता है!

मोहबत को जो निभाते हैं उनको मेरा सलाम है, और जो बीच रास्ते में छोड़ जाते हैं उनको, हुमारा ये पेघाम हैं, “वादा-ए-वफ़ा करो तो फिर खुद को फ़ना करो, वरना खुदा के लिए किसी की ज़िंदगी ना तबाह करो”

वो मोहब्बतें जो तुम्हारे दिल में हैं, उससे जुबां पर लाओ और बयां कर दो, आज बस तुमकहो और कहते ही जाओ, हम बस सुनें ऐसे बे-ज़ुबान कर दो.

अपल पल से बनता है एहसास, एहसास से बनता है विश्वास, विश्वास से बनते हैं कुछ रिश्ते, और उन रिश्तों से बनता है कोई खास।

नज़रे करम मुझ पर इतना न कर.. कि तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं मुझे इतना न पिला इश्क-ए-जाम की, मैं इश्क़ के जहर का आदी हो जाऊं।

तु दिल से ना जाये तो मैं क्‍या करू, तु ख्‍यालों से ना जाये तो मैं क्‍या करू, कहते है ख्‍वावों में होगी मुलाकात उनसे, पर नींद न आये तो मैं क्‍या करू।

जो कभी लिपट जाया करती थी बादलों के गरजने पर… वो आज बादलों से भी ज्यादा गरजती है

ज़िंदगी का हर वो रंग दिलकश लगता है, जो आपके प्यार में हम’पर चढ़ता है …!!!

सुनो!! दिल धड़कने लगता है ख़यालों से ही, ना जाने क्या हाल होगा मुलाक़ातों में.

 

 

KEEP FOLLOWING FOR DAILY NEW POSTS

Article Categories:
shayari

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *